मेरे साथी ....जिन्होंने मेरी रचनाओं को प्रोत्साहित किया ...धन्यवाद

शुभ-भ्रमण

नमस्कार! आपका स्वागत है यहाँ इस ब्लॉग पर..... आपके आने से मेरा ब्लॉग धन्य हो गया| आप ने रचनाएँ पढ़ी तो रचनाएँ भी धन्य हो गयी| आप इन रचनाओं पर जो भी मत देंगे वो आपका अपना है, मै स्वागत करती हूँ आपके विचारों का बिना किसी छेड़-खानी के!

शुभ-भ्रमण

24/09/2010

शाम ढले घर रोज सुनो तुम आजाना

बड़ा निठुर हो चला
आज का ये जमाना
शाम ढले घर रोज
 सुनो तुम आजाना

कही कडकती बिजली
दिल में घर करती है
लगातार बारिश
अनजाने डर करती है
तभी पड़ोसी का आकर
कुछ खबर सुनाना
शाम ढले घर रोज
 सुनो तुम आजाना

समझ रही हूँ काम बिना
 जीवन न चलता
पर दिल में रहती है
जैसे कोई विकलता
सुबह चाय पीकर
कुछ खाकर जो जाते हो
न मन का कुछ सुन पाते
न कह पाते हो
सुनो गावं की सडकें
टूटी व् जर्जर है
नदी की टूटी पुलिया 
पानी से तर है
एकली राह पे सूनापन
 है वक्त बेगाना
शाम ढले घर रोज
 सुनो तुम आजाना



4 टिप्‍पणियां:

  1. बड़ा निठुर हो चला
    आज का ये जमाना
    शाम ढले घर रोज
    सुनो तुम आजाना

    bahut sundar

    उत्तर देंहटाएं
  2. ....किसी अपने की सलामती में व्याकुल मन की संवेदना को चरित्रार्थ करती सुन्दर रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. टूटी व् जर्जर है
    नदी की टूटी पुलिया
    पानी से तर है
    एकली राह पे सूनापन
    है वक्त बेगाना
    शाम ढले घर रोज
    सुनो तुम आजाना
    बहुत सुन्दर कविता है। लगता है जो भी घर से जाता है पीछे रहने वालों को यही डर सताता है सडकें बदहाल ट्रेफिक दिनो दिन बढता जा रहा है। नई सी कविता के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

विचार है डोरी जैसे और ब्लॉग है रथ
टीप करिये कुछ इस तरह कि खुले सत-पथ