मेरे साथी ....जिन्होंने मेरी रचनाओं को प्रोत्साहित किया ...धन्यवाद

शुभ-भ्रमण

नमस्कार! आपका स्वागत है यहाँ इस ब्लॉग पर..... आपके आने से मेरा ब्लॉग धन्य हो गया| आप ने रचनाएँ पढ़ी तो रचनाएँ भी धन्य हो गयी| आप इन रचनाओं पर जो भी मत देंगे वो आपका अपना है, मै स्वागत करती हूँ आपके विचारों का बिना किसी छेड़-खानी के!

शुभ-भ्रमण

29 जन॰ 2010

क्यों ना

कि आये छोड़ सब हम, साथ तुम खड़े क्यों ना 
गयेपीछे नहीं हम, तुम मगर बढ़े     क्यों ना

मै तो हूँ साथ   बगल में भी   तुमने देखा था
 कि  मेरे वास्ते   फिर   जहाँ से लड़े क्यों ना

ना बुलाया, ना कुछ कहा, ना ही रोका तुमने
"ना जाने दूंगा"    इसी बात पर अड़े क्यों ना

कि छोड़ के  तमाम जिंदगी  हम मर जाते
 कि नयी राह    मेरे साथ   चल पड़े क्यों ना

                                              -वेदिका

24 टिप्‍पणियां:

  1. wah wah vedika, Mindblowing what u wrote... best wishes

    जवाब देंहटाएं
  2. आपके भाव लाजवाब लगे , लिखती रहें ।

    जवाब देंहटाएं
  3. वेदिका जी आपकी यह ग़ज़ल तो बहुत बढ़िया लगी.. बधाई स्वीकारें...लेखनी निरंतर प्रगति पाएँ...

    जवाब देंहटाएं
  4. पहली बार पढ़ा वेदिका को.. सच्चे और अच्छे सवाल पूछे... ग़ज़ल अच्छी लिख लेती हैं आप.. उम्मीद है और भी आगे को पढ़ने को मिलेगा ऐसा ही बेहतरीन सा..
    जय हिंद...

    जवाब देंहटाएं
  5. गज़ल बहुत बढिया है और इसके दर्द को मुझसे ज्यदा कौन समझ सकता है. भावी जीवन की शुभकामनाये.
    खुश रहो.

    जवाब देंहटाएं
  6. बेहद खूबसूरत गज़ल ! धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं
  7. Bahut Hi Achchha Likha Hain.

    FM & AIR Listener From Bhopal

    जवाब देंहटाएं
  8. bahut ahsaas bhare hai magar dard dikhate hai

    khush numa rang bhare jeevan me dua hai

    जवाब देंहटाएं
  9. Sundar alfaaz lekin jeevanka ek katu saty-koyi na sang chale..

    जवाब देंहटाएं
  10. pahli baar aaj aapko padh raha hun ,acchai rachna hai .aaki lekhni kuch kahti hai, accha laga .


    KASHYAP-IANDPOLITICS.BLOGSPOT.COM

    जवाब देंहटाएं
  11. हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में प्रोफेशन से मिशन की ओर बढ़ता "जनोक्ति परिवार "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ ,

    जवाब देंहटाएं
  12. हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में प्रोफेशन से मिशन की ओर बढ़ता "जनोक्ति परिवार "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ ,

    जवाब देंहटाएं
  13. हिंदी ब्लाग लेखन के लिये स्वागत और बधाई । अन्य ब्लागों को भी पढ़ें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देने का कष्ट करें

    जवाब देंहटाएं
  14. waahh Dost bahut sundar kavita likhi hai kahte hai kavita likhna phir bhi aasan hai likin dikhana kathin hai....or aapki kavitamuhe dikhae de rahi hai....bahut khoob!!

    Jai HO Mangalmay HO

    जवाब देंहटाएं
  15. वाह! बेहतरीन लिखा है आपने.
    जारी रहें. शुभकामनाएं.

    जवाब देंहटाएं
  16. हर रंग को आपने बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों में पिरोया है, बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  17. pahli baar aapkee pahlee rachnaa padhee. lagtaaa hai jaise kavitaa aapkee mazburee hai aur photography aapkaa shauk. dono ko banaaye rakhiye.mujhe aapkee shoot ki photoes bahut pasand aayeen. aur photoes ki prateekshaa rahegee.

    जवाब देंहटाएं

विचार है डोरी जैसे और ब्लॉग है रथ
टीप करिये कुछ इस तरह कि खुले सत-पथ