मेरे साथी ....जिन्होंने मेरी रचनाओं को प्रोत्साहित किया ...धन्यवाद

शुभ-भ्रमण

नमस्कार! आपका स्वागत है यहाँ इस ब्लॉग पर..... आपके आने से मेरा ब्लॉग धन्य हो गया| आप ने रचनाएँ पढ़ी तो रचनाएँ भी धन्य हो गयी| आप इन रचनाओं पर जो भी मत देंगे वो आपका अपना है, मै स्वागत करती हूँ आपके विचारों का बिना किसी छेड़-खानी के!

शुभ-भ्रमण

26/06/2013

हिन्द की सेना को समर्पित -मुक्तक





हिन्द की सेना को समर्पित मुक्तक १२२२/ १२२२/ १२२२/ १२२२

यही सच आज मानवता का तुम वरदान हे! सेना 
कि तुम विपदा में आये आदमी की जान हे! सेना 
कि शिव तो एक जो कैलाश में चुपचाप बैठे है 
कि तुम हो सत्य सुंदर और शिव भगवान् हे! सेना 




                                           -गीतिका वेदिका