मेरे साथी ....जिन्होंने मेरी रचनाओं को प्रोत्साहित किया ...धन्यवाद

शुभ-भ्रमण

नमस्कार! आपका स्वागत है यहाँ इस ब्लॉग पर..... आपके आने से मेरा ब्लॉग धन्य हो गया| आप ने रचनाएँ पढ़ी तो रचनाएँ भी धन्य हो गयी| आप इन रचनाओं पर जो भी मत देंगे वो आपका अपना है, मै स्वागत करती हूँ आपके विचारों का बिना किसी छेड़-खानी के!

शुभ-भ्रमण

12/03/2013

"फागुन का हरकारा”


  गीतिका 'वेदिका   

 "फागुन का हरकारा”


भंग छने रंग घने
फागुन का हरकारा

टेसू सा लौह रंग
पीली सरसों के संग
सब रंग काम के है
 कोई नही नाकारा

बौर भरीं साखें है
नशे भरी आँखें है
होली की ठिठोली में
 चित्त हुआ मतवारा

जित देखो धूम मची
टोलियों को घूम मची
कोई न बेरंग आज
रंग रंगा जग सारा

मुठी भर गुलाल लो
दुश्मनी पे डाल दो
हुयी बैर प्रीत, बुरा;
मानो नही यह नारा

मन महके तन महके
वन औ उपवन महके
महके धरा औ गगन
औ गगन का हर तारा

जीजा है साली है
देवर है भाभी है
सात रंग रंगों को
रंगों ने रंग  डारा

चार अच्छे कच्चे रंग
प्रीत के दो सच्चे रंग
निरख निरख रंगों को
तन हारा मन हारा

          8/03/2013 1:45pm