मेरे साथी ....जिन्होंने मेरी रचनाओं को प्रोत्साहित किया ...धन्यवाद

शुभ-भ्रमण

नमस्कार! आपका स्वागत है यहाँ इस ब्लॉग पर..... आपके आने से मेरा ब्लॉग धन्य हो गया| आप ने रचनाएँ पढ़ी तो रचनाएँ भी धन्य हो गयी| आप इन रचनाओं पर जो भी मत देंगे वो आपका अपना है, मै स्वागत करती हूँ आपके विचारों का बिना किसी छेड़-खानी के!

शुभ-भ्रमण

4 जुल॰ 2013

सार/ललित

सार/ललित छंद १६ व १२ मात्रा पर यति का विधान, पदांत गुरु गुरु अर्थात s s से,, छन्न पकैया पर प्रथम प्रयास / क्रिकेट विषय
-------------------------------------------------
छन्न पकैया छन्न पकैया, टॉस करेगा सिक्का
कौन चलेगा पहली चाली, हो जायेगा पक्का ।। १

छन्न पकैया छन्न पकैया, कंदुक लाली लाली
इक निशानची ठोकर मारे, गिल्ली भरे उछाली।। २

छन्न पकैया छन्न पकैया, बादल छटते जाये
आँखों में है धूर झोंकते, धन भर घर ले आये ।। ३

छन्न पकैया छन्न पकैया, गिरा राज का कुंदा
हाथ हथकड़ी पांव बेड़ियाँ, गले पड़ गया फंदा ।। ४

छन्न पकैया छन्न पकैया, चले काठ का बल्ला
गेंद गयी सीमा बाहर ते, दीदों में है हल्ला ।। ५

छन्न पकैया छन्न पकैया, तू जीती या हारी
ठंडा बेचन हारों को तो, प्यारी है रिजगारी ।। ६

छन्न पकैया छन्न पकैया, अब प्रेशर है भारी
गुट्ट्म गोल दना दन सरपट, दौड़ी जो दे मारी ।। ७

                                                          गीतिका 'वेदिका'

7 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ...बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    पढ़कर मन प्रसन्न हो गया!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार आदरणीय रूपचन्द्र शास्त्री जी!
      आशीष बनाये रखिये !!

      हटाएं
  2. खुबसूरत , बहुत सुंदर, लेखनी को शुभकामनाये


    यहाँ भी पधारे

    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/01/yaadain-yad-aati-h.html

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अवश्य आदरणीय शोर्य जी!
      शुक्रिया !

      हटाएं
  3. छन्न पकैया छन्न पकैया किरकेट सबकी प्यारी
    सार/ललित छंदों की सोंधाहट पर हम बलिहारी

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका शुक्रिया आदरणीय राकेश कौशिक जी!

      हटाएं

विचार है डोरी जैसे और ब्लॉग है रथ
टीप करिये कुछ इस तरह कि खुले सत-पथ