मेरे साथी ....जिन्होंने मेरी रचनाओं को प्रोत्साहित किया ...धन्यवाद

शुभ-भ्रमण

नमस्कार! आपका स्वागत है यहाँ इस ब्लॉग पर..... आपके आने से मेरा ब्लॉग धन्य हो गया| आप ने रचनाएँ पढ़ी तो रचनाएँ भी धन्य हो गयी| आप इन रचनाओं पर जो भी मत देंगे वो आपका अपना है, मै स्वागत करती हूँ आपके विचारों का बिना किसी छेड़-खानी के!

शुभ-भ्रमण

6 मई 2010

कौन बहार बिखेर गया...!

सूने से मन आंगन में मेरे
ये कौन रंगोली उकेर गया....

पतझर तो था अभी-अभी
फिर कौन बहार बिखेर गया...

अपना तो नही था, झौंका
शायद माथे हाथ फेर गया....

लौट आये वो लम्हा देखूं
जो पहले कुछ देर गया ....

वेदिका

6 टिप्‍पणियां:

  1. पतझर तो था अभी-अभी
    फिर कौन बहार बिखेर गया...
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  2. कम शब्दों मैं अच्छा लिखा
    आपको बधाई

    http://sanjaykuamr.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. saja ke rakho in lamho ko
    yaad bahut ye aayenge..
    din ye pyare pyare hai..
    udasi me tumhe hasayenge..

    aapki rachna padh kar ye lines aa gayi...apki rachna bahut acchhi aur masumiyat se ot-prot he.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सोच बहुत अच्छी, शब्द, भाव और प्रस्तुति अच्छी

    उत्तर देंहटाएं

विचार है डोरी जैसे और ब्लॉग है रथ
टीप करिये कुछ इस तरह कि खुले सत-पथ