मेरे साथी ....जिन्होंने मेरी रचनाओं को प्रोत्साहित किया ...धन्यवाद

शुभ-भ्रमण

नमस्कार! आपका स्वागत है यहाँ इस ब्लॉग पर..... आपके आने से मेरा ब्लॉग धन्य हो गया| आप ने रचनाएँ पढ़ी तो रचनाएँ भी धन्य हो गयी| आप इन रचनाओं पर जो भी मत देंगे वो आपका अपना है, मै स्वागत करती हूँ आपके विचारों का बिना किसी छेड़-खानी के!

शुभ-भ्रमण

07/02/2010

विदाई के अवसर पर.....

मैया के रोये से नदिया बहत है 
बाबुल के रोये बेला ताल 
भैया के रोये मेरी छतिया फटत है 
भौजी के जियरा कठोर 

बुंदेलखंड में विवाह में विदाई के अवसर पर गाया जाने वाला मार्मिक लोकगीत के बोल .....

3 टिप्‍पणियां:

  1. भावुकता से ओतप्रोत मार्मिक गीत...एहसास कराती हुई की विदाई के वक्त कितना ज़्यादा दुख होता है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी5/3/10, 12:28 am

    ek to sari bhauji aisi nahi hoti dusre dulhiniya ke bbare me nahi likha...geet mati se nikle to aise hi mahkte hai'
    romesh

    उत्तर देंहटाएं
  3. Bahut achi rachna vedika ji. sach me har pardesh/parant aur samaj ke apne kuch alag-alag geet/reet hoti hain..lakin unka sareak sa hota ha..bahut acha. bhai ap jo lekhti hain lagta ha sarswati mata ki badi kirpa ha ape par.. kamna karta hun sada bani raha.subhkamnayon ke sath.

    उत्तर देंहटाएं

विचार है डोरी जैसे और ब्लॉग है रथ
टीप करिये कुछ इस तरह कि खुले सत-पथ