मेरे साथी ....जिन्होंने मेरी रचनाओं को प्रोत्साहित किया ...धन्यवाद

शुभ-भ्रमण

नमस्कार! आपका स्वागत है यहाँ इस ब्लॉग पर..... आपके आने से मेरा ब्लॉग धन्य हो गया| आप ने रचनाएँ पढ़ी तो रचनाएँ भी धन्य हो गयी| आप इन रचनाओं पर जो भी मत देंगे वो आपका अपना है, मै स्वागत करती हूँ आपके विचारों का बिना किसी छेड़-खानी के!

शुभ-भ्रमण

17 सित॰ 2012

"मेरे घर आये है साजन"


मेरे घर आये है साजन
आँगन निखर गया

बरसी थी नैनो की बदली
धो गयी सब काजल और कजली
रोग शोक दुःख पीड़ा
जाने किधर गया

हम मिलकर तुमसे हरसाए
सबको अपने सजन दिखाए
खूब खूब खुद पे इतराए
विरह वेदना का रोना
सब बिसर गया


6 टिप्‍पणियां:

  1. bahot dino baad aaya aapke blog par..achha laga dekhkar ki aap abhi bhi likh rahe ho..facebook or orkut pe aap nahi mile??

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप आये ब्लॉग पर ...बहुत अच्छा लगा ...अपनी प्रतिक्रिया देते रहिये ..ब्लॉग में फेसबुक की लिंक है आदरणीय

      हटाएं
  2. किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इतनी ख़ूबसूरती से प्रशंसा करने के लिए ...वाह
      आपका स्वागत है आदरणीय भास्कर जी!

      हटाएं
  3. बहुत ही खूबसूरत गीत है!!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन हेतु अनेक धन्यवाद आदरणीय

      हटाएं

विचार है डोरी जैसे और ब्लॉग है रथ
टीप करिये कुछ इस तरह कि खुले सत-पथ